Thinker, Writer, Anchor

June 30, 2017

भगवान जगन्नाथ के दरबार में सुदामा ने श्याम को रिझाया


ब्यावर शहर के बांकेबिहारी मंदिर में दस दिवसीय श्री जगन्नाथ रथयात्रा महोत्सव हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है। यहां महाप्रभु के भक्त श्रद्धा भाव के साथ प्रभु की भक्ति में लीन हैं। महोत्सव के तहत शुक्रवार को जानकी मंडल के सौजन्य से एक शाम खाटू नरेश के नाम कार्यक्रम आयोजित किया गया। इसमें के.सुदामा भजन मंडल ने सुमधुर भजनों की प्रस्तुति दी। गायक भागचंद चौहान व महेंद्र सांखला ने हरिनाम संकीर्तन व गणेश वंदना से कार्यक्रम की शुरूआत की। इसके बाद छम-छम नाचे वीर हनुमाना.., नजर हमारी आपकी चौखट पर है प्रभु.., राधा का भी श्याम वो मीरा का भी श्याम.., खुश हो जाए गर सांवरा ठाठ देता है.., मोरछड़ी लहराई रे रसिया सांवरा.. भजन की प्रस्तुति दी। मेरे देश की धरती.., संदेशे आते हैं.., मेरा कर्मा तू.. जैसे गीतों से माहौल को देशभक्ति के रंग में रंग में रंग दिया। विजय अनुरोध, सतीश गर्ग, सुनील गर्ग, विक्रम सोलीवाल ने सह गायन किया।
इससे पूर्व माणक डाणी, विजय तंवर, सुरेश रायपुरिया, राधेश्याम डाणी, मोनू अरोड़ा, महेश सिंहल, स्नेहलता गोयल, कुसुम डाणी, शकुंतला गोयल, सुनीता यादव, सरस्वती अग्रवाल, शोभा चोटिया, कविता शर्मा, प्रेम गर्ग, सुलेखा झा ने गायक कलाकारों का स्वागत किया। कार्यक्रम में सभी महिलाएं पीले वस्त्र पहनकर शामिल हुई। ठाकुरजी को पीताम्बर पहनाकर पगड़ी धारण करवाई गई। अंत में पं.शिवरतन दाधीच ने ठाकुरजी की आरती की। कार्यक्रम में तहसीलदार योगेश अग्रवाल, मधु सोलीवाल, तनीषा सोनी, मधु जोशी, रेखा गोयल, बबीता गौड़, गीता चौहान, गंगा कच्छावा, भारती कुमावत, कंचन तंवर, रानू जोशी, कांता सोमानी, आनंदी सोनी, उर्मिला भाटी, रेखा सोनी, नीलम चौहान, आरती सोमानी, प्रतिभा शर्मा, सुमन पालड़िया, कृपाली तंवर, मीनू शर्मा, पुष्पा अरोड़ा, चंचल सोनी, मंजू सोनी, लता शर्मा, शीतल दाधीच, कौशल्या फतेहपुरिया, राखी गर्ग, महेंद्र सलेमाबादी, किशोर अग्रवाल, प्रेम जिंदल, राधेश्याम शर्मा, नरेश झंवर, अनिल शर्मा,अंकुर मित्तल, चर्चित मंगल, संस्कार मंगल सहित कई भक्त शामिल हुए।

धार्मिक वीडियो देखने के लिए हमारा चैनल सब्सक्राइब करें..Click Here for Subscribe Youtube Channel


शनिवार को किशोरी सखी करेगी भजन
विजय तंवर ने बताया कि शनिवार को एक शाम लाड़ली जू के नाम भक्तिमय कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। इसमें किशोरी सखी मंडल की ओर से सुमधुर भजनों की प्रस्तुति दी जाएगी। गायिका आनंदी सोनी, अंजू गर्ग, कांता सोमानी, उर्मिला भाटी, रेखा सोनी भजनों से राधारानी की आराधना करेंगी।

यहां क्लिक करके देखें : किशोरी सखी के भजन

महाप्रभु को लगेगा छप्पन भोग
सुमित सारस्वत ने बताया कि जगन्नाथ रथयात्रा महोत्सव के तहत 3 जुलाई को छप्पन भोग महोत्सव मनाया जाएगा। भक्त अपने प्रभु के लिए घर से विभिन्न व्यंजनों का भोग बनाकर लाएंगे। प्रभु को भोग लगाने के बाद भक्तों को छप्पन भोग का विशेष प्रसाद वितरित किया जाएगा। 4 जुलाई को हरिनाम संकीर्तन के साथ महाप्रभु पुन: निज धाम प्रस्थान करेंगे। -सुमित सारस्वत SP, मो.09462737273





यहां क्लिक करके पढ़ें : आसमानी बिजली से बचने के उपाय

Share:

June 29, 2017

मोगरे से महकते माहौल में बही ब्रज रस की मन्दाकिनी

भगवान जगन्नाथ का दरबार, रंग-बिरंगे फूलों का शृंगार, मोगरे से महकता माहौल, गोपाल के भक्ति गीत और भावों में डूबे सैंकड़ों भक्त। असीम आनंद से भरा यह नजारा दिखा गुरुवार को राजस्थान के ब्यावर शहर में। यहां बांकेबिहारी मंदिर में श्री जगन्नाथ रथयात्रा महोत्सव के तहत ब्रजरस कार्यक्रम आयोजित किया गया। इसमें श्रीश्यामा श्याम वंदना परिवार की ओर से सुमधुर भजनों की सरिता बहाई गई। गायक गोपाल वर्मा ने गजानंद कृपा करियो जी.. भजन से कार्यक्रम की शुरूआत की। राम नाम का ओढ़ दुशाला छम-छम नाच दिखावे जी.. भजन से हनुमानजी का आह्वान किया। इसके बाद सांवली सूरत पे मोहन दिल दीवाना हो गया.., कन्हैया हिण्डो डाल्यो रे हरिया बाग में.., तेरे बिना मैं रोइ रे सांवरिया तेरी याद में.., सांवरिया क्यों हमें सताकर मुस्कुराते हो.., चौक पुराओ आज मोरे कान्हा घर आए हैं.., नाच्यो बहुत गोपाल अब मैं.. जैसे भजनों की सरिता बहाई तो भक्त मंत्रमुग्ध हो गए। ठाकुरजी के ननिहाल में ब्रज की धूम मच गई। हर भक्त ठाकुरजी को पुकार लगाते हुए भावों में डूबा हुआ झूम रहा था। हेमंत शर्मा, शुभम शर्मा, हर्षल, राहुल अग्रवाल ने सहगायन किया। उद्घोषक सुमित सारस्वत ने मंच संचालन किया। हीरालाल जगन्नाथ न्यास अध्यक्ष माणक डाणी, रथयात्रा महोत्सव प्रमुख विजय तंवर, शृंगार संयोजक मोनू अरोड़ा, राधेश्याम डाणी, लीलाधर झा, किशोर अग्रवाल, सुरेश रायपुरिया, राजीव दाधीच, महेश सिंहल, महेंद्र सलेमाबादी, नरेश झंवर ने गायक कलाकारों व कार्यक्रम सौजन्यकर्ता दयाप्रसाद अग्रवाल व गुंजन अग्रवाल का स्वागत किया। भजन विश्राम होने पर पं.शिवरतन दाधीच, दिलीप शर्मा, राजीव दाधीच व अन्य विप्रजनों ने राजस्थानी परिधान धारण कर पारपंरिक अंदाज में ठाकुरजी की विशेष महाआरती की।


लडडू गोपाल ने मन मोहा
जगन्नाथ महाप्रभु के दरबार में गुरुवार को लडडू गोपाल की मनमोहक झांकी सजाई जाएगी। भक्त अपने घरों में विराजित लडडू गोपाल का शृंगार कर दरबार में लाए। यहां सभी बाल गोपाल को एक साथ विराजमान किया गया। कोई गोपाल को झूले में तो कोई ठाकुरजी को बैलगाड़ी में सजाकर लाया। सुंदर सलोने बाल गोपाल को देखकर निगाहें स्थिर हो गई। शुक्रवार को दरबार में के.सुदामा भजन मंडल की ओर से भक्तिमय प्रस्तुति दी जाएगी।

यहां क्लिक करके देखें : बांकेबिहारी मंदिर में भजन

इन भक्तों ने लिया आनंद
कार्यक्रम में कौशल्या फतेहपुरिया, प्रतिभा शर्मा, कुसुम डाणी, कांता सोमानी, साधना सारस्वत, सुमित्रा जैथल्या, कंचन तंवर, सुमन पालड़िया, सुनीता हेड़ा, संगीता गर्ग, संगीता पसारी, आनंदी सोनी, उर्मिला भाटी, आरती सोमानी, कृपाली तंवर, मीनू शर्मा, निधि झंवर, अंजू हेड़ा, मनीषा गर्ग, पुष्पा अरोड़ा, कविता शर्मा, चंचल सोनी, मंजू सोनी, प्रीति शर्मा, भारती कुमावत, ममता गुप्ता, उषा गर्ग, सुलेखा झा, शीतल दाधीच, रेखा शर्मा, कांता गुजराती, ज्योति कुमावत, सुरभि गोयल, प्रियंका चतुर्वेदी, रानी सिंह, सपना राजपूत, ख्याति गर्ग, खुशी, शिखा, कोमल, सत्यनारायण अरोड़ा, नटवर अरोड़ा, चतुर्भुज साहू, राजकुमार टांक, बालकिशन सोनी, ओमप्रकाश गुप्ता, सतीश गर्ग, दिनेश जैन, विष्णु चौटिया, अनिल शर्मा, गोपाल चतुर्वेदी, लक्ष्मीप्रसाद आकोलावाला, चर्चित मंगल, संस्कार मंगल सहित सैंकड़ों भक्तों ने बिहारीजी के भक्ति रस का भरपूर आनंद लिया।

यह भी पढ़ें : भगवान जगन्नाथ के दरबार में गंगा-जमुनी तहजीब का मिलन

महाप्रभु को लगेगा छप्पन भोग
जगन्नाथ रथयात्रा महोत्सव के तहत 3 जुलाई को छप्पन भोग महोत्सव मनाया जाएगा। भक्त अपने प्रभु के लिए घर से विभिन्न व्यंजनों का भोग बनाकर लाएंगे। प्रभु को भोग लगाने के बाद भक्तों को छप्पन भोग का विशेष प्रसाद वितरित किया जाएगा। दरबार में प्रतिदिन आकर्षक शृंगार किया रहा है। -सुमित सारस्वत SP, मो.09462737273

हमारा फेसबुक पेज लाइक करें..Click Here
Share:

June 28, 2017

आसमानी बिजली से ऐसे बचें

बारिश के मौसम में इंसान पर एक आसमानी कहर टूटता है, जिसका नाम है बिजली। एक बिजली जहां जीवन में रोशनी लाती है, वहीं आसमानी बिजली की कौंध इंसानी जीवन में अंधेरा लेकर आती है। बिजली से बचने के लिए सावधानी रखते हुए करें यह उपाय-

  1. किसी बिल्डिंग या गाड़ी में शरण लें।
  2. पेड़ के नीचे भूलकर भी ना जाएं।
  3. आपातस्थिति को छोड़कर मोबाइल, टेलीफोन का उपयोग नहीं करें।
  4. पहाड़ या ऊंचाई पर ना जाएं।
  5. नदी, तालाब या स्विमिंग पूल में हों तो बाहर आ जाएं।
  6. सिर के बालों का अपने आप खड़े हो जाना आसमानी बिजली के खतरे का संकेत है। ऐसी स्थिति में तुरंत अपने सिर को ढककर घुटनों में छुपा लें।
  7. अपने घर के ऊपर बिजली चालक लगवाएं।
  8. काली तुलसी की जड़ की माला पहनें, ये आसमानी बिजली से बचाती है।




Share:

रथ पे बैठ के आज जगत के नाथ पधारे हैं..


बांकेबिहारी मंदिर में स्वरागिनी ग्रुप की भक्तिमय प्रस्तुति

भगवान जगन्नाथ के दरबार में प्रस्तुति देती स्वरागिनी ग्रुप की गायिकाएं।
बांकेबिहारी मंदिर में भजनों का आनंद लेती महिलाएं।
श्री जगन्नाथ रथयात्रा महोत्सव के अवसर पर राजस्थान के ब्यावर शहर में आयोजित दस दिवसीय महोत्सव के तहत बुधवार को बांकेबिहारी मंदिर में स्वरागिनी ग्रुप ने भक्तिमय प्रस्तुति दी। गायिका चंचल सोनी ने आओ विनायक आओ.. भजन से कार्यक्रम की शुरूआत की। इसके बाद जमुना किनारे झिलमिल करे तारे.., तेरे बिना श्याम हमारा नहीं कोई.., अगले जन्म में राधा बन जाना मुझे कान्हा बना देना.. भजन की भावपूर्ण प्रस्तुति दी। शालिनी शर्मा ने नैनों के रास्ते प्रभु दिल में समां रहे हो.., संतोष सोनी ने रथ पे बैठ के जगत के नाथ पधारे हैं.., मंजू गर्ग ने थाने पलकां में बंद कर राखूं श्याम.., मंजू सोनी व कृष्णा गोयल ने सांवरिया ले चल परली पार.., अलका सोनी व पिंकी सोनी ने काली कमली वाला मेरा यार है.. भजन की प्रस्तुति दी। अंत में श्याम माई डियर मस्ताना, दीवानों का दीवाना.. भजन पर सभी आनंदित होकर झूम उठे। इससे पूर्व हीरालाल जगन्नाथ न्यास अध्यक्ष माणक डाणी, रथयात्रा समिति प्रमुख विजय तंवर, मोनू अरोड़ा, सुमित सारस्वत, कुसुम डाणी, साधना सारस्वत, अर्चना बेरीवाला, सुलेखा झा, सुमन पालड़िया, कविता शर्मा, अंजू हेड़ा ने गायक कलाकारों का स्वागत किया। पं.शिवरतन दाधीच ने बांकेबिहारी व जगन्नाथ महाप्रभु की आरती की। कार्यक्रम में कांता सोमानी, मीनू शर्मा, भारती कुमावत, सुनीता साहू, कृपाली तंवर, आरती सोमानी, रेखा शर्मा, उषा गर्ग, राधेश्याम शर्मा, सुरेश रायपुरिया, सतीश गर्ग, गोपाल चतुर्वेदी, किशोर अग्रवाल, अनिल शर्मा, महेश सिंहल, राधेश्याम डाणी, प्रेम जिंदल, नरेश झंवर, मुकेश चौहान, राहुल अग्रवाल, कौशल्या फतेहपुरिया, उर्मिला भाटी, प्रियंका चतुर्वेदी, राखी गर्ग, पुष्पा अरोड़ा, कोमल चतुर्वेदी, नटवर अरोड़ा, ओमप्रकाश गुप्ता, विष्णु चौटिया, दिलीप शर्मा सहित कई भक्त शामिल हुए।

धार्मिक वीडियो देखने के लिए हमारा चैनल सब्सक्राइब करें..Click Here for Subscribe Youtube Channel


गुरुवार को सजेगी लडडू गोपाल की झांकी

गुरुवार को श्यामा श्याम वंदना परिवार के गायक गोपाल वर्मा भजनों की प्रस्तुति देंगे। जगन्नाथ महाप्रभु के दरबार में लडडू गोपाल की मनमोहक झांकी सजाई जाएगी। भक्त अपने घरों में विराजित लडडू गोपाल का शृंगार कर दरबार में लाएंगे। -सुमित सारस्वत SP, मो.09462737273

यह भी पढ़ें : भगवान जगन्नाथ के दरबार में मुस्लिम गायक के भजन


बांकेबिहारी व राधारानी का मनमोहक शृंगार।
 फूल बंगले में विराजे जगन्नाथ महाप्रभु। 
Share:

June 27, 2017

भगवान जगन्नाथ के दरबार में मुस्लिम गायक के भजनों पर मंत्रमुग्ध हुए भक्त

ईद के दिन जहां हिंदुओं ने मुस्लिमों को ईद की मुबारकबाद दी, वहीं दूसरे दिन एक मुस्लिम गायक ने मंदिर में आकर ईश्वर की आराधना की। हिंदू भक्त सूफियाना गायिकी के मुरीद होकर वाहवाही करने लगे।
अल्लाह तेरो नाम, ईश्वर तेरो नाम.. इस भाव के साथ मंगलवार को भगवान जगन्नाथ के दरबार में गंगा-जमुनी तहजीब का मिलन हुआ। राजस्थान के ब्यावर शहर में स्थित बांकेबिहारी मंदिर में श्रीनाथ सत्संग मंडल की ओर से 'सांप्रदायिक सदभाव रसवर्षा' का अनूठा कार्यक्रम आयोजित किया गया। इसमें मारवाड़ से आए ख्यातनाम गायक मोहम्मद असलम खान ने अनूठी शैली में सूफी गीतों के साथ भक्ति सरिता बहाई। कुचामन के गायक सर्वेश्वर व्यास ने गाइए गणपति जगवंदन.. भजन से कार्यक्रम की शुरूआत की। इसके पश्चात असलम खान ने अल्लाह तेरो नाम, ईश्वर तेरो नाम.. गीत से कौमी एकता का संदेश देते हुए सूफी गायिकी के सुर बिखेरे। खान ने इक राधा इक मीरा, दोनों ने श्याम को चाहा.., ऐसी लागी लगन मीरा हो गई मगन.., मेरो कान्हा कन्हैया नंदलाला, ऐसी बजाई मुरली.. जैसे विरह भजन गाए तो भाव में डूबे श्रोताओं की पलकें भीग गई। मेरा आपकी कृपा से सब काम हो रहा है.., श्याम पिया मोरी रंग दे चुनरिया.. भजन की भावपूर्ण प्रस्तुति दी तो श्रोता मंत्रमुग्ध हो गए।
ठाकुरजी की सेवा करते भक्त। फोटो : बबलू अग्रवाल
के.सुदामा भजन मंडल के गायक भागचंद चौहान व सतीश गर्ग ने भी सुमधुर भजनों की प्रस्तुति दी। बंशी जोर की बजाई नंदलाला.., कितना प्यारा है श्रृंगार तेरा.. जैसे भजन गाए तो भक्त झूम उठे। खान के साथ फोरट्रेक म्यूजिकल ग्रुप ने संगीत की सरगम बिखेरी तो सभी का मन मयूर आनंदित होकर झूमने लगा। इससे पूर्व हीरालाल जगन्नाथ न्यास अध्यक्ष माणक डाणी, श्रीनाथ सत्संग मंडल के हंसराज शर्मा, राजेंद्र अग्रवाल, बृजवल्लभ पाराशर, श्री जगन्नाथ रथयात्रा समिति प्रमुख विजय तंवर, सुमित सारस्वत, सुरेश रायपुरिया ने गायक कलाकारों का स्वागत किया। मोनू अरोड़ा, बबलू अग्रवाल, महेश सिंहल ने ठाकुरजी का फूलों से विशेष शृंगार कर आकर्षक दरबार सजाया। अंत में पं.मुकुंदशरण दाधीच व पं.शिवरतन दाधीच ने बांकेबहारी व जगन्नाथ महाप्रभु की आरती की।
यहां क्लिक करके वीडियो देखें : बांकेबिहारी मंदिर में भजन

जगन्नाथ भगवांन के दरबार में भजनों पर झूमती महिलाएं। फोटो : बबलू अग्रवाल
भक्ति कार्यक्रम में भजनों का आनंद लेती महिलाएं
कार्यक्रम में पंकज बजारी, मुकेश दाधीच, राजेश सावलानी, शोभराज खत्री, गोपाल वर्मा, प्रतिभा शर्मा, संध्या अग्रवाल, प्रेमकांता बजारी, संगीता बजारी, पुष्पा पाराशर, ज्योति अग्रवाल, सुमित्रा जैथल्या, कंचन तंवर, कुसुम डाणी, अंजू हेड़ा, साधना सारस्वत, आरती सोमानी, उर्मिला भाटी, चंचल सोनी, शालिनी शर्मा, कविता शर्मा, शोभा चौटिया, सुलेखा झा, पुष्पा राठी, मंजू गर्ग, बालकिशन राठी, सत्यनारायण अरोड़ा, तेजनारायण व्यास, विष्णु चौटिया, धर्मसिंह, रोहित बजारी, मोहनलाल पंवार, शुभम शर्मा, राजेंद्र सिंहल, सुरेश शर्मा, उमाकांत दवे, प्रवीण गोयल, नरेंद्र सदनानी, भगवान सिंह, गोपाल चतुर्वेदी, देवकी सावलानी, संगीता दिवेदी, ज्योति दाधीच, राधिका बजारी, जसवीर कौर, कौशल्या फतेहपुरिया, पुष्पा अरोड़ा, राखी गर्ग, ज्योति कुमावत, प्रियंका चतुर्वेदी, कोमल चतुर्वेदी, लक्ष्मीप्रसाद आकोलावाला, दिनेश जैन, अरविंद बंसल, मोहित पाराशर, मनमोहन पाराशर, राजीव दाधीच, दिलीप शर्मा, चतुर्भुज साहू, नटवर अरोड़ा, राजकुमार टांक, ओमप्रकाश गुप्ता, बालकिशन सोनी, नरेश झंवर, अनिल शर्मा, गौरव गर्ग, अंकुर मित्तल, संस्कार मंगल, चर्चित मंगल, छोटूलाल सोनी सहित कई भक्त शामिल हुए। बुधवार को दोपहर 3 बजे से स्वरागिनी ग्रुप की ओर से भजनों की प्रस्तुति दी जाएगी। -सुमित सारस्वत SP, मो.9462737273

यहां क्लिक करके देखें : खंडित मूर्तियों वाला मंदिर

'सांप्रदायिक सदभाव रसवर्षा' भक्ति कार्यक्रम में शामिल भक्त।



Share:

June 26, 2017

जगन्नाथ महाप्रभु के दरबार में गूंजेगे सूफी गीत | Muslim Singer will sing Sufi Songs in front of Lord Jagannath

बांकेबिहारी मंदिर में होगा गंगा-जमुनी तहजीब का मिलन

बांकेबिहारी व राधारानी का फूल बंगला शृंगार। 
श्री जगन्नाथ रथयात्रा के अवसर पर राजस्थान की धर्मनगरी ब्यावर में आयोजित दस दिवसीय महोत्सव के तहत मंगलवार को बांकेबिहारी मंदिर में गंगा-जमुनी तहजीब का मिलन होगा। यहां जगन्नाथ भगवान के दरबार में मुस्लिम गायक सूफी गीतों के साथ भक्ति करेंगे। सुमित सारस्वत ने बताया कि मंगलवार को श्रीनाथ सत्संग मंडल की ओर से सांप्रदायिक सदभाव रसवर्षा का आयोजन होगा। इसमें मारवाड़ के ख्यातनाम सूफी गायक मोहम्मद असलम खान अनूठी शैली में भक्ति गीतों की सरिता बहाकर आनंद से सराबोर करेंगे। ईद के ठीक एक दिन बाद हिंदू मंदिर में मुस्लिम गायक की गायिकी को लेकर भक्त बेताब हैं। दोपहर 3 बजे प्रारंभ होने वाले इस सौहार्दपूर्ण कार्यक्रम में खान के साथ फॉरट्रेक म्यूजिकल ग्रुप भी संगीतमय प्रस्तुति देगा। इस मौके पर ठाकुरजी का विशेष शृंगार कर आकर्षक दरबार सजाया जाएगा। सभी धर्मप्रेमियों से इस कार्यक्रम में शामिल होकर धर्मलाभ लेने का आग्रह किया गया है।


जगन्नाथ नाम भजो बार-बार, चैन मिलेगा अपरंपार..

भजनों की प्रस्तुति देते गायक मनोज शर्मा व झूमती महिलाएं। 
भजन प्रस्तुति देते गायक सतीश गर्ग। 
सोमवार को मारूति नंदन वंदना परिवार की ओर से भक्ति कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया। विजय तंवर ने बताया कि गायक मुकेश चौहान ने गजानंद कृपा करियो जी.. भजन से कार्यक्रम की शुरूआत की। इसके बाद जगन्नाथ नाम भजो बार-बार, चैन मिलेगा अपरंपार.. भजन से जगन्नाथ भगवान की स्तुति की। मनोज शर्मा ने मेरे श्याम कृपा कर दो, भक्तों की झोली भर दो.., छम-छम नाचे वीर हनुमाना.., पलकें ही पलकें बिछाएंगे श्याम.. भजन की प्रस्तुति दी। सतीश गर्ग ने श्याम ने बनड़ो बणायो रे.., बांकेबिहारी कजरारे तेरे नैन.. भजन की प्रस्तुति दी। भजनों पर सभी भक्त मंत्रमुग्ध होकर झूम उठे। अंत में पं.शिवरतन दाधीच ने बांकेबिहारी व जगन्नाथ महाप्रभु की आरती की। कार्यक्रम में हीरालाल जगन्नाथ न्यास अध्यक्ष माणक डाणी, विजय तंवर, मोनू अरोड़ा, राधेश्याम डाणी, गोपाल वर्मा, सुमित सारस्वत, राजेंद्र अग्रवाल, कुसुम डाणी, कौशल्या फतेहपुरिया, सुरभि गोयल, ज्योति कुमावत, चंचल सोनी, महेश सिंहल, सुनील चौहान, सुरेंद्र गोयल, ओमप्रकाश गुप्ता, दिनेश जैन, हेमंत शर्मा, लक्ष्मीप्रसाद आकोलावाला, महेंद्र सलेमाबादी, अरविंद बंसल, रामप्रसाद मित्तल, ओमप्रकाश दगदी, बबलू अग्रवाल, गौरव गर्ग, अंकुर मित्तल, चर्चित मंगल, संस्कार मंगल, राजीव दाधीच, दिलीप शर्मा, राजकुमार टांक, सुलेखा शर्मा, पुष्पा धूत सहित कई भक्त शामिल हुए।

भजनों की प्रस्तुति देते गायक मुकेश चौहान व उपस्थित श्रोता। 



मंगल गीत गाकर किया स्वागत
माणक डाणी ने बताया कि भगवान जगन्नाथ अपने भाई बलदेव व बहन सुभद्रा के साथ ननिहाल पहुंचे तो पलक-पावड़े बिछाकर स्वागत किया गया। महिलाओं ने मंगल गीत गाए। संगीता, शीतल दाधीच ने तीनों देवों की आरती उतारकर मुंह मीठा करवाया। प्रभु के ननिहाल आगमन पर सभी भक्त ढोल-ढमाकों की थाप पर जमकर झूमे। वातावरण जयकारों से गुंजायमान हो गया। -सुमित सारस्वत, मो.09462737273
Share:

June 23, 2017

भोजपुरी फिल्मों में जलवा बिखेरेंगी हरियाणवी डांसर सपना चौधरी | Sapna Choudhary in Bhojpuri Film

सपना के गाने का एक दृश्य। 
पिछले साल जहर खाकर खुदकुशी करने की कोशिश करने वाली मशहूर हरियाणवी डांसर और सिंगर सपना चौधरी एक बार फिर चर्चा में हैं। दरअसल, सपना चौधरी अब जल्द ही भोजपुरी फिल्मों में काम करने वाली है। सपना ने मीडिया से बातचीत में कहा कि वो इस फिल्म को लेकर बेहद उत्साहित हैं। स्टेज पर डांस करना और फिल्म में आइटम सांग करना काफी अलग है। इस गाने की शूटिंग गत दिनों मुंबई के एक स्टूडियो में की गई है। फिल्म में भोजपुरी एक्ट्रेस गुंजन पंत लीड रोल में हैं। इस हिन्दी फिल्म के डायरेक्टर सनी कपूर, प्रोड्यूसर करणपाल सिंह, कोरियोग्राफर एफए खान और संगीतकार धीरज सेन हैं। सपना गाने में राजू श्रेष्ठ के साथ डांस कर रही हैं। यह गाना मुंबई के चांदीवदी स्टूडियो में फिल्माया गया।

सपना कर चुकी है सुसाइड की कोशिश
17 फरवरी 2016 को गुड़गांव में सपना चौधरी ने एक रागिनी गाई थी, जिसमें दलित समाज का नाम लिया गया था। इस रागिनी को लेकर गुड़गांव के खांडसा गांव निवासी सतपाल तंवर ने सपना डांसर के खिलाफ एससी एक्ट के तहत केस दर्ज कराया था। इसके बाद सपना ने 4 सितंबर को जहर खाकर सुसाइड करने की कोशिश की थी, जिसके कारण उन्हें कई दिनों तक अस्पताल में भर्ती रहना पड़ा था।

सोशल मीडिया पर बनी थी सुर्खियां
लोगों के दिलों पर राज करने वाली डांसर व सिंगर सपना चौधरी एक बार फिर सुर्खियों में, वो भी एक फोटो के कारण। सपना का एक फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें उनके पुलिस रेड में पकड़े जाने की बात कही जा रही है। इस फोटो में सपना बिस्तर पर बैठी नजर आ रही है और दो पुलिस अधिकारी उसके पास खड़े हैं। इस फोटो में सपना चौधरी बहुत परेशान सी नजर आ रही है। सोशल मीडिया पर वायरल इस फोटो के साथ संदेश में सपना चौधरी को हरियाणा पुलिस की छापेमारी में गिरफ्तार हुआ बताया जा रहा है। दरअसल ये फोटो हरियाणा के फतेहाबाद शहर में स्थित एक मैरिज पैलेस के कमरे में क्लिक किया गया था। फोटो में उनके पास खड़े पुलिस अधिकारी कोई और नहीं, बल्कि फतेहाबाद के सिटी एसएचओ सोमबीर ढाका हैं।
Click here : सपना की वायरल तस्वीरों का सच

पिता की मौत के बाद खुद परिवार को पाला
महज 12 साल की उम्र में पिता को खोने वाली सपना चौधरी ने अपने संघर्ष के दम पर ही परिवार को पाला। हरियाणा के रोहतक में जन्मी सपना को उसके पहने गाने ने ही सुपरस्टार बना दिया था। गाने के बोल थे 'सॉलिड बॉडी'। एक गाने की बदौलत सपना कुछ ही दिनों में हरियाणा ही नहीं बल्कि यूपी, राजस्थान, दिल्ली व पंजाब में भी फेमस हो गई। सपना का जन्म 25 सितंबर 1990 को रोहतक में मध्यवर्गीय परिवार में हुआ था। शुरुआती शिक्षा रोहतक से की। पिता रोहतक में एक निजी कंपनी में काम करते थे। पिता के निधन के बाद मां नीलम चौधरी और भाई-बहनों की जिम्मेदारी सपना के कंधों पर आ गई। सिंगिंग और डांसिंग को न सिर्फ अपना करियर बनाया बल्कि इसी के दम पर अपने पूरे परिवार को चलाया। सपना के पहले गाने 'सॉलिड बॉडी' ने उन्हें चंद दिनों में ही हरियाणा की फेमस स्टार बना दिया था।

Share:

June 22, 2017

भगवान जगन्नाथ भाई-बहन के साथ रथ में जाएंगे ननिहाल

25 जून को ब्यावर में धूमधाम से निकलेगी जगन्नाथ प्रभु की रथयात्रा, दस दिन तक होंगे धार्मिक कार्यक्रम

पुरी की तर्ज पर धार्मिक नगरी ब्यावर में विराजित भगवान जगन्नाथ अपने भाई बलदेव व बहन सुभद्रा के साथ ननिहाल जाएंगे। आगामी 25 जून को भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा धूमधाम से निकाली जाएगी। यह रथयात्रा नगर भ्रमण करते हुए बांकेबिहारी मंदिर पहुंचेगी। यहां आगामी 10 दिन तक पं.मुकुंदशरण दाधीच के सानिध्य में कई धार्मिक कार्यक्रम आयोजित होंगे।
रथयात्रा प्रमुख विजय तंवर ने बताया कि जगन्नाथ प्रभु की रथयात्रा 25 जून रविवार को दोपहर 3 बजे गोपालजी मोहल्ला से प्रारंभ होगी। फूल मालाओं से सुसज्जित रथ में विराजमान ठाकुरजी की आरती के पश्चात् चेरा-पोरी की रस्म निभाई जाएगी। उपखण्ड अधिकारी पीयूष सामरिया व तहसीलदार योगेश अग्रवाल सहित प्रशासनिक अधिकारी व जनप्रतिनिधि चेरा-पोरी की रस्म निभाएंगे। हरिनाम संकीर्तन के साथ भक्त प्रभु के रथ को खींचते हुए आगे बढ़ेंगे। नंदी घोष रथ के आगे लगे चार प्रतीकात्मक घोड़े धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष के प्रतीक होंगे। रथयात्रा में सबसे आगे सुमधुर स्वर लहरियां बिखेरता बैंड चलेगा। इसके पीछे बाल मंडली गौ माता के भजन व इस्कॉन के भक्त हरिनाम संकीर्तन करेंगे। प्रभात फेरी, महिला मंडली के साथ शहर के कई गायक भजन गाकर व महामंत्र का जाप करते हुए वातावरण को भक्तिमय बनाएंगे। संत अर्जुनराम रामस्नेही, केवलराम रामस्नेही, गोपालराम रामस्नेही, महंत फतेहगिरि सहित कई संत-महात्मा भी शामिल होंगे। शोभायात्रा का मार्ग में विभिन्न सामाजिक संस्थाओं, राजनीतिक व व्यापारिक संगठनों की ओर से स्वागत किया जाएगा। इस भव्य आयोजन को लेकर रामकिशोर झंवर, नवल मुरारका, बुधराज शर्मा, माणक डाणी, तेजनारायण व्यास, बालकिशन सोनी, गोपाल वर्मा, मोनू अरोड़ा, सुमित सारस्वत, अमित बंसल, नरेंद्र पारीक, अजय मोदी, सुनील जैथल्या, सुनील सिंहल, अविनाश गर्ग, बीएम अग्रवाल परिवार, एससी माहेश्वरी, विजय झंवर, सोमनाथ शर्मा, सुशील सिंहल, केदार गर्ग तैयारियों में जुटे हैं। रथ की व्यवस्था श्री सीमेंट कंपनी की ओर से संजय मेहता, पीएन छंगाणी, अरविंद खींचा, रामनारायण डाणी, नीरज शर्मा द्वारा की जाएगी। डॉ.आशालता शर्मा, कौशल्या फतेहपुरिया, सुमित्रा जैथल्या, मंजू गर्ग, नीलम खंडेलवाल, पुष्पा अरोड़ा महिला व्यवस्था में सहयोग करेंगी। गौरतलब है कि आषाढ़ माह में भगवान जगन्नाथ अपने भाई बलदेव व बहन सुभद्रा के साथ ननिहाल जाते हैं। ये तीनों देव अपनी यात्रा सजे संवरे रथों में सवार होकर करते हैं। इसे पुरी में रथ यात्रा या रथ महोत्सव कहा जाता है। यह रथयात्रा मिलन, एकता व अखंडता की प्रतीक है। इस पौराणिक प्रसंग को बीते कुछ साल से ब्यावर में भी साकार किया जा रहा है।
इन मार्गों से गुजरेगी रथयात्रा
ठाकुरजी की रथयात्रा गोपालजी मोहल्ला से प्रारंभ होकर भारत माता सर्किल, पीपलिया बाजार, सनातन स्कूल मार्ग, मालियान चौपड़, गीता भवन मार्ग, चमन चौराहा, पाली बाजार, भगत चौराहा, अजमेरी गेट, प्रसन्न गणपति मंदिर होते हुए बांकेबिहारी मंदिर पहुंचेगी।
फूल बंगले में विराजेंगे ठाकुरजी
10 दिन तक विभिन्न किस्मों के फूलों से श्रृंगार कर ठाकुरजी का आकर्षक फूल बंगला सजाया जाएगा। यहां प्रतिदिन अलग-अलग भजन मंडलों द्वारा भक्तिमय प्रस्तुति दी जाएगी। 26 जून को मारुति नंदन परिवार, 27 जून को श्रीनाथ सत्संग मंडल द्वारा ख्यातनाम भजन गायक असलम खान, 28 जून को स्वरागिनी ग्रुप, 29 जून को जानकी महिला मंडल, 30 जून को के.सुदामा भजन मंडल, 1 जुलाई को किशोरी सखी मंडल, 2 जुलाई को आर्ट ऑफ लिविंग, 3 जुलाई को खंडेलवाल महिला परिषद, 4 जुलाई को हरिनाम संकीर्तन परिवार द्वारा भजनों की प्रस्तुति दी जाएगी। यह भक्ति कार्यक्रम प्रतिदिन दोपहर 3 बजे से सायं 7 बजे तक होगा। -सुमित सारस्वत, मो.9462737273
Share:

June 21, 2017

7 माह के बच्चे ने योग कर दुनिया को हैरत में डाल दिया | Unbelievable Yoga

21 जून 2017 को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर जब पूरी दुनिया ने उत्साह और उमंग से योग कर रही थी, तब महज 7 माह के एक बच्चे ने योग कर सभी को हैरत में डाल दिया। दुनिया के साथ कार्तिक नाम के इस बच्चे ने भी विश्व योग दिवस मनाया। राजस्थान के इस बच्चे ने अपने घर में बाकायदा आसन बिछाकर योग किया। बच्चे के पिता ने सोशियल मीडिया पर योग की तस्वीरें पोस्ट की है। इन तस्वीरों में यह मासूम बच्चा योग सुखासन, भद्रासन, भुजंगासन व अन्य योग करता दिखाई दे रहा है। इन तस्वीरों को देखने वाला हर शख्स हैरत में है। जिस उम्र में शिशु अपने पालने से भी नहीं उतर पाता, उम्र में इस बच्चे का योग करना कुदरत का करिश्मा ही कहा जाएगा। -राजस्थान से सुमित सारस्वत की रिपोर्ट।
Click here and watch video
Share:

June 20, 2017

क्रांतिकारी संत जगदीश गोपाल ने दिए कड़वे प्रवचन, बोले- गाय वोट नहीं देती इसलिए उपेक्षा की शिकार

संत जगदीश गोपाल महाराज
राष्ट्रीय क्रांतिकारी संत जगदीश गोपाल ने कहा कि गाय वोट नहीं देती इसलिए राजनीतिक उपेक्षा की शिकार है। गौमाता के हत्यारे नेता बनकर गली-गली में घूम रहे हैं। राजनेता ही हैं जो सत्ता में बैठकर गौ हत्या के लिए कत्लखानों के लाइसेंस जारी करते हैं। वे ब्यावर में आयोजित विराट गो-कृपा सत्संग में गौमाता विषय पर प्रवचन दे रहे थे।
संत ने कहा कि नेताओं के कारण अहिंसा की धरती पर 4 हजार कत्लखाने खुल गए हैं। प्रतिदिन 80 हजार गायों को सूर्योदय से पहले मार दिया जाता है। सौ करोड़ हिंदुओं की मां संकट में है। गौमाता के नाम पर सिर्फ राजनीति हो रही है। कत्लखाने बंद होने चाहिए। गौ हत्या पर रोक लगनी चाहिए। चुनाव में उसी नेता को वोट दें जो जीतने के बाद गौरक्षा का संकल्प ले। गौमाता को दुश्मनों से बचा सके। उन्होंने कहा कि गाय पशु नहीं, प्राणी नहीं, सनातन धर्म की प्राण है। गाय परमात्मा की आराधना है। गाय सकल जगत की दाता है। दुर्भाग्य है कि समझदार लोग गाय को पशु समझ रहे हैं। गोपाल कृष्ण की गाय कभी पशु नहीं हो सकती। संत ने कहा कि जब से इंसान ने गाय को पशु समझना शुरू किया तब से खुद पशु समान हो गया है। मां को पशु समझने पर पुत्र भी पशु हो जाता है। उसी के जीवन में राम है जिसके जीवन में गौमाता है। गौमाता का देवत्व देखने के लिए हृदय की आंखें खोलनी होगी। जन्म से पहले और मृत्यु के पश्चात् भी जीव का कल्याण करने के लिए जीवन में गौमाता का होना जरूरी है। प्रवचन के दौरान संत ने जन्म से लेकर मृत्य तक गौमाता के महत्त्व से जुड़े शास्त्रोक्त उपाय बताए। सत्संग का प्रारंभ जय गौमाता जय गोपाल.. कीर्तन से हुआ और समापन गौ रक्षा संकल्प के साथ हुआ। मंच संचालन ओम महावर ने किया। कार्यक्रम से पूर्व अजीत शर्मा, धर्मराज छड़िया, राजेश शर्मा, नितेश गोयल, सुमित सारस्वत, सतीश गर्ग, अंगद अजमेरा, दिनेश पायलट, जयंत सोलंकी, लक्की मकवाना, माणक साहू, शंकर बुलंद, पुखराज साहू, अनिल इंद्राणिया, जगदीश साहू, जसराज जांगिड़ ने महाराज का माला पहनाकर स्वागत किया। कार्यक्रम में शशि सोलंकी, सुरेश वैष्णव, हेमंत कुमावत, तारा सोनी, सीमा शर्मा, प्रीति शर्मा, लता शर्मा, हेमेंद्र जैन, भूपेंद्र कुमावत, सुनील शर्मा, शेखर सोलंकी, चतुर्भुज साहू सहित बड़ी संख्या में गौ भक्त शामिल हुए।

हर घर में हो गौ पालन
संत ने कहा कि अखण्ड भारत के लिए गाय को बचाना बहुत जरूरी है। कश्मीर से गौमाता खत्म हुई तो कश्मीरी पंड़ित सड़कों पर आ गए। अब कश्मीर वैसा नहीं रहा जो स्वर्ग जैसा था। देश में गौ रक्षक की तुलना में गौ भक्षक ज्यादा हो गए हैं। गाय को बचाने के लिए हर घर में गौ पालन होना चाहिए। जन्मदिवस, विवाह वर्षगांठ जैसे शुभ दिन गौमाता के साथ मनाइए। बेटी को दहेज में टीवी या कार नहीं, गौदान दीजिए।
हर घर में हो लाइसेंसधारी हथियार
क्रांतिकारी संत ने कहा कि हिंदू आतंकवादी नहीं, आनंदवादी है। मगर जो समय आ रहा है उसे देखते हुए हर हिंदू को लाइसेंस लेकर घर में हथियार रखना चाहिए। गौमाता को बचाने के लिए हथियार उठाना गलत नहीं है। गाय को बचाने के लिए किसी को मारना पड़े या खुद मरना पड़े तो चिंता मत करना। गौ हत्यारे को मारने वाले के सारे पाप नष्ट हो जाते हैं। अगर गाय नहीं रहेगी तो तिलक और चोटी वाले नहीं रहेंगे, सिर्फ टोपियां नजर आएगी।
हर हिंदू के चार बच्चे हों
संत ने हिंदुओं की घटती संख्या पर चिंता जताते हुए कहा कि हर हिंदू के चार संतान होनी चाहिए। तर्क देकर समझाया कि सनातन संस्कृति में चार वेद, चार आश्रम, चार दिशा है तो बच्चे भी चार ही होने चाहिए। राजा दशरथ के भी चार पुत्र थे। वर्तमान में माता-पिता एक बच्चे से भी घबरा रहे हैं। अगर ऐसी संख्या घटती रही तो हिंदुओं का बीज भी नहीं मिलेगा।
स्माइल इज वैरी नेसेसरी फॉर लाइफ
संत ने सदैव प्रसन्न रहने का संदेश देते हुए कहा कि संसार सुखों का महासागर है। यह परमात्मा की बनाई कृति है। इसके बावजूद इंसान के जीवन से मुस्कान गायब है। हर इंसान दुखी है क्योंकि मुस्कुराने के लिए सुख चाहिए। अगर कोई मुस्कुरा भी रहा है तो दर्द छुपाने के लिए। मुस्कुरावे सो मानव, टेंशन में रहे सो दानव.. श्लोक से समझाया कि मुस्कुराने की कला सिर्फ इंसान में है, पशु में नहीं। हर परिस्थिति में मुस्कुराते रहिए।
गली-गली में मंदिर बनना शर्मनाक
महाराज ने कहा कि गली-गली में मंदिर बनाकर देवताओं का अपमान किया जा रहा है। हर समाज अपना अलग मंदिर बना रहा है। शर्मनाक है कि हिंदू समाज मंदिरों में बंट गया है। इस तरह अखण्डता खत्म करने की बजाय संगठित होकर राम मंदिर बनवाओ।
सावन में ना पीएं दूध
संत ने कहा कि बल व बुद्धि विकास के लिए प्रतिदिन शुद्ध देसी गाय के दूध का सेवन करें। सावन मास में कभी दूध ना पीएं। सावन के दूध में जहर होता है। इसीलिए सावन का दूध भगवान शिव को चढ़ाया जाता है। एकमात्र शिव में ही जहर पीने की क्षमता है। -सुमित सारस्वत SP, स्वतंत्र लेखक

विराट गो-कृपा सत्संग में शामिल गौ भक्त।

संत जगदीश गोपाल महाराज के प्रवचन सुनने उमड़ा जनसमुदाय।

Share:

June 19, 2017

अदालत में वकालत के बाद सियासत में आए रामनाथ कोविंद | Who is Ram Nath Kovind?

14वें राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद का जीवन परिचय
राष्ट्रपति चुनाव 2017 के संदर्भ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सोमवार को अपनी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वरिष्ठतम नेताओं से मुलाकात के बाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने घोषणा करते हुए बताया कि बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) की ओर से राष्ट्रपति पद के प्रत्याशी होंगे। कोविंद को भारत के 14वें राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित किया गया है। वे समाज के वंचित वर्ग को अधिकार दिलाने एवं उनके सशक्तीकरण के प्रखर पैरोकार रहे हैं। कोली जाति से सम्बन्ध रखने वाले कोविन्द ने सिविल सेवा परीक्षा भी उत्तीर्ण की थी, लेकिन ज्वॉइन नहीं किया। आइए जानते हैं, अदालत में वकालत के बाद सियासत में आए रामनाथ कोविंद के जीवन, परिवार और देश के लिए उनके योगदान के बारे में ।

क्लिक करें : बिहार राज्यपाल रामनाथ सिंह होंगे 14वें राष्ट्रपति

मोरारजी देसाई के निजी सचिव रहे हैं कोविंद 
रामनाथ कोविंद ने कानपुर विश्वविद्यालय से वकालत की शिक्षा प्राप्त करने के बाद वकील के तौर पर अपना करियर शुरू किया। वे दिल्ली हाई कोर्ट में 1977 से केन्द्र सरकार के वकील और उसके बाद सुप्रीम कोर्ट में केन्द्र सरकार के स्थायी वकील और एडवोकेट ऑन रिकॉर्ड भी रहे हैं। वे करीब 16 वर्ष तक सुप्रीम कोर्ट और दिल्ली हाई कोर्ट में वकील के तौर पर सक्रिय रहे। दिल्ली में वकालत के दौरान वे वर्ष 1977 में जनता पार्टी की सरकार के समय में तत्कालीन प्रधानमंत्री स्वर्गीय मोरारजी देसाई के निजी सचिव भी रहे । इसके बाद उन्होंने भारतीय जनता पार्टी में सक्रिय रहते हुए राष्ट्रीय स्तर तक अनेक दायित्वों का निर्वहन किया।

रामनाथ कोविंद का योगदान Contribution of Ramnath Kovind 
69 वर्षीय रामनाथ कोविंद का अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति वर्ग के लोगों के हितों की संरक्षण के लिए बहुत महत्वपूर्ण योगदान रहा है। 1993 में जब केन्द्र सरकार के एक आदेश के कारण अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति वर्ग के कर्मचारियों के हितों पर संकट आया तो रामनाथ कोविंद ने इसे दूर करने के लिए आंदोलन में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। आगे चलकर अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में बनी सरकार ने संविधान में तीन संशोधन कर ये आदेश वापस ले लिए। कोविंद ने सांसद के तौर पर शिक्षा के उत्थान में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया है। वकालत के दिनों में उन्होंने फ्री लीगल एड सोसायटी के माध्यम से समाज के वंचित एव अभावग्रस्त वर्ग  को निशुल्क कानूनी मदद उपलब्ध कराने  में भी अहम योगदान दिया।

रामनाथ कोविंद का परिवार Family of Ramnath Kovind
रामनाथ कोविन्द 1 अक्टूबर, 1945 को कानपुर देहात की डेरापुर तहसील के परौंख गांव में जन्मे थे। वे तीन भाइयों में सबसे छोटे हैं।  उनकी पत्नी का नाम सविता कोविन्द हैं और उनके पुत्र का नाम प्रशांत कुमार है, जो विवाहित हैं। रामनाथ कोविंद की पुत्री का नाम स्वाति है। परौंख गांव में अपना पुश्तैनी आवास उन्होंने सामाजिक कार्यों के लिए दान दे दिया है।

संसदीय जीवन Parliamentary Career  of Ramnath Kovind
रामनाथ कोविंद को पहली बार 1994 में उत्तर प्रदेश से राज्यसभा सदस्य चुना गया और लगातार दो बार यानी करीब 12 वर्ष तक वे राज्यसभा सदस्य रहे। कोविंद अनुसूचित जाति-जनजाति कल्याण, गृह मामले, पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता, विधि एवं न्याय विषयों पर संसदीय समितियों के सदस्य भी रहे हैं। वे राज्यसभा की आवास समिति के अध्यक्ष भी रहे हैं। कोविंद ने वर्ष 2002 में संयुक्त राष्ट्र में भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा को सम्बोधित किया। वे अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, थाईलैण्ड, नेपाल, पाकिस्तान, सिंगापुर, जर्मनी और स्विट्जरलैण्ड की यात्रा कर चुके हैं।


Share:

Bihar governor Ram Nath Kovind is NDA's pick for prez

The BJP on Monday stunned its opponents by announcing that the low-profile Bihar Governor, Ram Nath Kovind, a Dalit from Uttar Pradesh, would be its nominee for the President of India. Kovind, who arrived in Delhi from Patna on Monday, will file his nomination on June 23.
Apparently looking for a consensus around Kovind’s candidature, Prime Minister Narendra Modi spoke to Congress President Sonia Gandhi and former Prime Minister Manmohan Singh after the BJP Parliamentary Board decided on Kovind’s name.
The 72-year-old Dalit leader, a two-term BJP Rajya Sabha member, is seen as an astute choice by the ruling party, which has been targeted by Opposition parties over Dalit issues. Kovind’s election is almost a certainty as the ruling bloc, with the support of some regional parties, enjoys a majority in the electoral college.
The late KR Narayanan was the country’s first Dalit President. 

Click : Who is Ram Nath Kovind?

‘Careful consideration’

“For the highest post in parliamentary democracy, BJP and NDA have been consulting different parties and groups. We have received a lot of feedback from different social groups as well. We had a long list, which was discussed in the Parliamentary Board. In the end, we finalised the name of Ram Nath Kovind, Governor of Bihar,” Shah said.
The BJP chief was confident that he had the backing of all NDA constituents and asserted that the BJP has also reached out to the Opposition.

“Ram Nathji has always been associated with the poor, downtrodden communities. BJP Parliamentary Board has decided on him. NDA constituents support him as President. Before finalising his name, we have held discussions with all Opposition parties. The PM himself spoke to Sonia Gandhi, Manmohan Singh, he has spoken to other senior leaders. BJP and NDA hope that a person hailing from a poor, Dalit background will be elected with consensus,” said Shah.
Share:

June 14, 2017

डांसर सपना चौधरी की वायरल तस्वीरों का सच | Reality of Sapna Chaudhary's Raid

हरियाणा की मशहूर डांसर सपना चौधरी की सोशल मीडिया पर वायरल तस्वीरों ने सनसनी मचा रखी है। एक फोटो में सपना अपने बेडरूम में बैठी हैं और उसी कमरे में कुछ पुलिसकर्मी भी मौजूद है। वहीं दूसरे फोटो में सपना पुलिसकर्मियों के साथ जाती दिख रही है। तस्वीरों को सोशल मीडिया पर इस प्रकार पेश किया गया कि पुलिस ने सपना को किसी मामले में गिरफ्तार किया है। तस्वीरें वायरल होने के बाद सपना को मामले की सफाई देनी पड़ी और वायरल हुए फोटो का सच अपने चाहने वालों को बताना पड़ा। फेसबुक पर लाइव होकर सपना ने अपने प्रशंसकों को इन फोटो की जो सच्चाई बताई वो हैरान करने वाली थी। सपना ने बताया कि यह फोटो फतेहाबाद में हुए कार्यक्रम के दौरान किसी ने लिए थे और बेडरूम में जो पुलिसकर्मी दिखाए दे रहे हैं वे उसकी सुरक्षा के लिए तैनात किए गए थे। सपना ने बताया कि जिस फोटो में पुलिसकर्मी उसे ले जाते दिखाए गए हैं, उसमें पुलिसकर्मी अपनी सुरक्षा घेरे में उसे कार्यक्रम स्थल तक ले जा रहे हैं। सपना ने फोटो वायरल करने वाले को आड़े हाथों लिया। यह तस्वीरें वायरलने होने के बाद लोग तरह तरह की बातें कर रहे हैं। -सुमित सारस्वत की रिपोर्ट।

यहां क्लिक करके सुनें : तस्वीरों की कहानी, सपना की जुबानी


Share:

June 10, 2017

इंद्रा विश्नोई का चौंकाने वाला बयान- ‘भंवरी जिंदा है’


भंवरी देवी।  फाइल फोटो 
राजस्थान की राजनीति में तहलका मचाने वाले बहुचर्चित एएनएम भंवरी देवी प्रकरण में आरोपी इंद्रा विश्नोई ने आज एक चौंकाने वाला बयान देकर बवाल मचा दिया है। जोधपुर कोर्ट में पेशी के बाद जी न्यूज संवाददाता राजीव गौड़ ने इंद्रा से पूछा- 'सुना है भंवरी देवी जिन्दा है?' जवाब में इन्द्रा मुस्कुराते हुए बोली- 'हां भंवरी ज़िंदा है।' 
एएनएम भंवरी देवी के अपहरण व हत्या की मुख्य कड़ी मानी जाने वाली इन्द्रा बिश्नोई को कड़ी सुरक्षा के बीच शनिवार को कोर्ट में पेश किया। जहां से उसे सेंट्रल जेल भेजा गया। कोर्ट के बाहर ही उसने यह बयान दिया। इंद्रा के अधिवक्ता फरजंद अली ने भी कहा कि 'चार्जशीट के आधार पर जिंदा हो सकती है भंवरी।' गौरतलब है कि साढे पांच साल तक फरार इन्द्रा को एटीएस ने गत दो जून को देवास (मध्यप्रदेश) से हिरासत में लिया था। मजिस्ट्रेट ने उसे तीन जून को सात दिन के रिमांड पर भेजा था।

वीडियो में सुनिए क्या कहा इंद्रा ने..क्लिक करें

भंवरी जिंदा है तो कहां है?
इंद्रा के बयान से सूबे की सियासत में फिर उफान आ गया है। सीबीआई की कार्यशैली पर भी सवाल खड़ा हो गया है। सबसे बड़ा सवाल यह कि भंवरी जिंदा है तो कहां है? अगर वाकई भंवरी जिन्दा है तो फिर सीबीआई द्वारा बरामद की गई हड्डियां किसकी थी? इस सवाल को लेकर सीबीआई पहले भी निशाना बन चुकी है।

कोर्ट में इंद्रा का ड्रामा
जब इंद्रा को कोर्ट लाया गया तो पहले वह शांत रही। बाद में जब सुनवाई शुरू हुई तो उसने कहा कि मुझ पर किसी ने काला जादू किया है। मैं ज्यादा कुछ नहीं बोल सकती। उसके बाद कोर्ट ने सुनवाई पूरी होने पर इंद्रा को जेल भेजने के लिए कहा। कोर्ट के बाहर इंद्रा ने कहा कि भंवरी जिंदा है। एेसा कहने के बाद पुलिस इंद्रा को जेल के लिए लेकर रवाना हो गई। 🖋सुमित सारस्वत की रिपोर्ट


कोर्ट में पेशी के बाद इंद्रा को जेल ले जाती पुलिस। 
Share:

June 6, 2017

मैंने रंगा केसरी चोला लखदातार के लिए..


एकादशी पर श्याम मंदिर में देर रात तक झूमे भक्त

निर्जला एकादशी पर  बाबा श्याम का नयनाभिराम दर्शन
ब्यावर में श्री श्याम परिवार ने निर्जला एकादशी पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया। फतेहपुरिया चौपड़ स्थित श्याम मंदिर में विशेष पूजा-अर्चना के बाद विशाल भजन संध्या का आयोजन हुआ। इसमें शहर के ख्यातनाम भजन गायकों ने देर रात तक भक्ति सरिता बहाई। विजय शर्मा ने गणेश वंदना व नाम संकीर्तन से कार्यक्रम की शुरुआत की। गायक मुकेश चक्रधारी ने सांवरियो बैठो है जो लेणो है सो मांग ले.., मनोज शर्मा ने हारे के सहारे आजा.., विजय मंडोरा ने एक बार तो राधा बनकर देखो सांवरिया.., सुमित सारस्वत ने क्यूं रूस्या हो म्हासूं बाबा.., निशांत मंगल ने हम हारे के सहारे.. जैसे सुमधुर भजन गाए तो श्रोता भाव-विभोर होकर झूम उठे। गायक गोपाल वर्मा ने उड़ा दी नींद रातों की हमारा दिल चुराकर के.., मैंने रंगा केसरी चोला लखदातार के लिए.. भजन गाकर कार्यक्रम को ऊंचाइयां प्रदान की। राकेश भंडारी, विजयनारायण शर्मा, सतीश गर्ग ने भी भजनों की प्रस्तुति दी। एकादशी के मौके पर सचिन जैन ने बाबा के श्रृंगार का मनोरथ लिया। कार्यक्रम में अमित बंसल, तिलक बाबेल, दिलीप खत्री, अंकुर मित्तल, कपिल गर्ग, सुनील कौशिक, मुकेश गर्ग, बबीता मंगल, तन्वी अग्रवाल, सुरभि गोयल, अनिता बंसल, माधुरी गर्ग, मोहित भंसाली, संस्कार मंगल, दीपेश गोयल, चर्चित मंगल, पुनीत बंसल, हर्षुल मित्तल, अरविंद बंसल, मुकेश गुप्ता, अंकित गर्ग, मयंक सिंहल, मुकेश मंगल, अक्षय गर्ग, मोहित अग्रवाल, उत्तम गर्ग, राहुल दगदी, मयंक गर्ग सहित कई श्याम भक्त शामिल हुए। महाआरती के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ।

श्याम  मंदिर में भजन प्रस्तुति देते गायक। 

भजन प्रस्तुति देते गायक व  उपस्थित श्रोता।

भजन संध्या में भजनों का  आनंद लेते  श्याम भक्त।
Share:

June 3, 2017

राह चलती लड़की को छेड़ा, फिर क्या हुआ देखिए | LIVE

राजस्थान के कोटा में बस स्टॉप पर खड़ी दो महिलाओं को छेड़ना एक मनचले को भारी पड़ गया। गुस्साई महिलाओं ने मनचले की जमकर पिटाई कर दी। उन्हें देखकर वहां से गुजरने वाले लोग भी मनचले को पीटने लगे। लोगों ने लात-घूंसों से इस मनचले की जमकर पिटाई की। आप इन लाइव तस्वीरों में देख सकते हैं लोगों ने किस तरह मनचले को सबक सिखाया। महिलाएं और वहां मौजूद लोग किस तरह इस मनचले को पीट रहे हैं। बेशक इन मजनूंओं को सबक सिखाना चाहिए ताकि ये दुबारा किसी महिला या लड़की को लैला समझकर बुरी नज़र से ना देखें। महिलाएं और बालिकाएं गलत कार्य का विरोध करें और ऐसे मनचलों को सबक सिखाएं। -राजस्थान से सुमित सारस्वत की रिपोर्ट। Click for watch live video

Share:

June 1, 2017

आसमान से बरसे 'सफेद बम', मच गया हाहाकार ! OMG

अगर तेज आवाज के साथ आसमान से आफत बरसने लगे तो इंसान हो या जानवर सभी अपनी जान बचाकर इधर-उधर भागने लगेंगे। ऐसा ही कुछ देखने को मिला राजस्थान के बाड़मेर में। यहां बुधवार को तेज बारिश के साथ ओले गिरे। इन ओलों का आकार अंडे के समान था। गोलियों की फायरिंग और धमाके जैसी आवाज के साथ बरस रहे इन ओलों को देखकर लगा मानो कोई आसमान से सफेद बम फेंक रहा हो। ओलों की मार से हाहाकार मच गया। सभी जान बचाने के लिए भागने लगे। ओलावृष्टि के कारण फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है। मंडियों में रखा सैंकड़ों बोरी अनाज खराब हो गया है। बैमौसम बारिश ने किसानों के सिर पर चिंता की लकीरें उकेर दी है। प्रदेश के जयपुर, जोधपुर, जैसलमेर, अजमेर, बीकानेर, बूंदी, ब्यावर सहित कई स्थानों पर तेज बरसात हुई है। मौसम विभाग के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ के लगातार बदलाव और अचानक सक्रिय होने से बारिश और ओलावृष्टि हुई है। -राजस्थान से सुमित सारस्वत की रिपोर्ट।



Share:

Featured Post

दास्तान-ए-आशिकी, जुबान-ए-इश्क | Famous Love Story

ग्लोबलाइजेशन के इस युग ने हमारी जेनरेशन को वैलेंटाइंस डे का तोहफा दिया है। यह दिन प्यार के नाम होता है। इतिहास के पन्ने पलटने पर आप पाएंगे...

Amazon Big Offer

Advt

Blog Archive

Copyright

इस ब्लॉग में दिये किसी भी लेख या उसके अंश और चित्र को बिना अनुमति के किसी भी अन्य वेबसाइट या समाचार-पत्र, पत्रिका में प्रकाशित नहीं किया जा सकता। अनुमति के लिये केवल मेल पर सम्पर्क करें: sumit.saraswat09@gmail.com

Pageviews

Labels

Blog Archive

Recent Posts

Unordered List

Theme Support